एसिडिटी (Acidity)

एसिडिटी

एसिडिटी की समस्या पेट से संबंधित एक आम समस्या है गर्मी में एसिडिटी की समस्या बढ़ जाती है, पाचन करने वाले किसी भी अंग में कोई खराबी हो जाने के कारण पेट से संबंधित समस्याएं शुरू हो जाती है खट्टी डकार आना, सीने में जलन होना , उल्टी आना, पेशाब में जलन आदि एसिडिटी के मुख्य लक्षण है जिनकी पाचन शक्ति खराब होती है उन्हें एसिडिटी की समस्या अधिक रहती है पेट में हाइड्रो क्लोरिक एसिड पाया जाता है जो खाने कोर्ट छोटे-छोटे टुकड़ों में विभाजित करता है और यह भोजन नली के संपर्क में नहीं आता कई बार विकृति आने पर भोजन नली अपने आप खुल जाती है और हाइड्रोक्लोरिक एसिड भोजन नली में पहुंच जाता है जिसके कारण सीने में जलन पेट से संबंधित समस्याएं उत्पन्न हो जाती है एसिडिटी के रोगियों में कब्ज जैसी समस्याएं देखने को मिलती है|

एसिडिटी के लक्षण(Acidity symptoms)

  • गले में जलन और बेचैनी का अनुभव होना
  • पेट और सीने में जलन होना एसिडिटी रोग का लक्षण है
  • मछली या उल्टी आना भी एसिडिटी रोग का लक्षण है
  • गले की समस्याएं जैसे गले में खराश होना कई बार सीने में जलन के कारण पेट का अम्लीय द्रव गले तक वापस आ जाता है जिससे खट्टी डकार आने लगती है
  • लगातार सूखी खांसी आना भी एसिडिटी रोग का लक्षण है
  • वजन का घटना
  • कब्ज की शिकायत होना
  • पेट में गैस बन जाने के कारण पेट का फूलना एसिडिटी रोग का मुख्य लक्षण है
  • मुंह में सफेद परत का जमा हो जाना

एसिडिटी क्यों होती है (Acidity causes)

  1. धूम्रपान– धूम्रपान और शराब का सेवन करने से अमाशय में बहुत अधिक मात्रा में एसिडिटी बढ़ जाती है इसलिए धूम्रपान का कम सेवन करना चाहिए|
  2. तनाव– मनुष्य के शरीर में किसी भी बात को लेकर चिंता बढ़ती है और मन में तनाव बढ़ता है तो अमाशय में एसिड निकलने की मात्रा भी बढ़ जाती है|
  3. चटपटा और मसालेदार भोजन– चटपटा और मसालेदार भोजन खाने से एसिडिटी होने लगती है और खट्टी डकार आने लगती है जिसे सीने में जलन पेट से संबंधित समस्याएं उत्पन्न होती है|
  4. मांसाहारी खाना– मांसाहारी खाने में फैट की मात्रा ज्यादा होती है ऊपर से उससे बनाने के लिए तेल जैसे खाद्य पदार्थ का उपयोग किया जाता है जिस से एसिडिटी होने की संभावना बढ़ जाती है|
  5. रसायनों के संपर्क में आने से– किसानों की कीटनाशक और उर्वरक रसायन के संपर्क में आने से पेट में एसिडिटी होने की आशंका बढ़ जाती है|

एसिड रिफ्लक्स के लक्षण (Acid re flux symptoms)

  • एसिड रिफ्लक्स की समस्या होने पर पाचन क्रिया ठीक नहीं रहती और सीने में छाती में जलन होने लगती है
  • पेट के निचले हिस्से में जलन का महसूस होना
  • मूह मे वापिस भोजन के आने से डकारे आने लगती है
  • कई बार व्यक्ति को घबराहट भी होने लगती है

एसिड रिफ्लक्स के लिए घरेलू उपाय (Acid re flux remedies)

  • एसिड रिफ्लक्स होने पर मुलेठी का चूर्ण का सेवन करने से हमें एसिडिटी की समस्या से राहत मिलती है
  • गुड़ में मैगनीशियम होता हैएसिड रिफ्लक्स से बचने के लिए खाना खाने के तुरंत बाद गुड़ का सेवन करें ऐसा करने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • एसिड रिफ्लक्स से बचने के लिए त्रिफला चूर्ण का प्रयोग भी लाभदायक है
  • दूध में मुनक्का डालकर उबाल कर इसे ठंडा करके पीने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस और काली मिर्च मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • कच्चे जीरे को चबाने के बाद आधा गिलास पानी पीने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • कच्ची सौंफ चबाने से एसिड रिफ्लक्स की समस्या से निजात मिलता है सुबह खाली पेट गुनगुना पानी पीने से एसिड रिफ्लक्स की समस्या दूर होती है
  • तुलसी एसिड रिफ्लक्स की समस्या को कम करने में लाभदायक है तुलसी के कुछ पत्ते प्रतिदिन सुबह चबाने  से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  •   नारियल का पानी पीने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • पुदीने की पत्तियों को पानी में उबालकर पानी का सेवन करने से एसिडिटी में फायदा होता है
  • मूली का सेवन करने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • नीम की छाल का चूर्ण या नीम की छाल को पानी में भिगोकर रात भर रखने से प्रतिदिन सुबह पानी का छानकर सेवन करने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
Neem
नीम ( Ne em )

एसिडिटी मे क्या खाना चाहिए (Acid re-flux food to avoid)

  • खरबूजा- खरबूजे पर्याप्त मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है इसलिए इसका सेवन करने से पाचन क्रिया ठीक रहती है और एसिडिटी की समस्या भी भी दूर होती है
  • सौंफ-सौंफ की पत्तियों को खाने से नारियल का पानी पीने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • ब्रोकली-ब्रोकली ,गाजर का सेवन करने से पेट और सीने में जलन की समस्या दूर होती है एसिडिटी को भी ठीक करती है
  • पालक– हरी पत्तेदार सब्जियां कैसे पालक को प्रतिदिन की आहार में शामिल करना चाहिए अपनी पालक का प्रतिदिन सेवन करने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • धनिया-धनिया में पर्याप्त मात्रा में पानी पाया जाता है जिससे एसिडिटी की समस्या दूर होती है
  • अजवाइन– अजवाइन का गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से एसिडिटी की समस्या से आराम मिलता है
  • केला-केले का सेवन करने से जलन की समस्या दूर होती है यह प्रति दिन की आहार में केले का सेवन करना चाहिए
  • पाइनएप्पल– पाइनएप्पल में डाइजेस्टिव एंजाइम काफी मात्रा में पाया जाता है जो एसिड के स्तर को कम करता है व एसिडिटी की समस्या से आराम मिलता है
  • अदरक-अदरक में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होती है जो पाचन शक्ति को बढ़ाते हैं जिससे कब्ज की समस्या दूर होती है