कमजोरी

कमजोरी की समस्या एक आम समस्या बन गई है चाहे महिला हो या पुरुष| उम्र के बढ़ने के साथ-साथ व्यक्ति की मांसपेशियां कमजोर हो जाती है जिसके कारण शारीरिक कमजोरी आने लगती है|अक्सर यह देखा जाता है कि महिलाओं में पीरियड्स के समय रक्त स्त्राव होने पर शरीर में खून की कमी हो जाती है जिसके कारण शारीरिक कमजोरी हो जाती है|महिला को पेट में दर्द ऐठन होने लगती हैऔर थकान का अनुभव होता है या किसी अन्य बीमारी की चपेट में आने पर शरीर में खून की कमी हो जाती है| पुरुषों में शारीरिक कमजोरी शुक्राणुओं की कमी के कारण होती है| शराब का सेवन करने से पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का निर्माण कम होने लगता है और हारमोंस में कमी आ जाती है जिसके कारण पुरुष नपुंसकता का शिकार हो जाते हैं और शारीरिक कमजोरी होने लगती है या किसी अन्य बीमारी जैसे-शुगर की चपेट में आने से व्यक्ति का वजन कम होने लगता है जिसके कारण शरीर में कमजोरी आने लगती है और थकान का अनुभव होता है|

कमजोरी के लक्षण

  • अचानक बेहोश हो जाना
  • शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाने से भी कमजोरी आने लगती है
  • चिंता व डिप्रेशन होने के कारण भी शरीर में कमजोरी आ सकती है
  • बोलने में कठिनाई का अनुभव होना
  • मांसपेशियों में दर्द व ऐठन रहना
  • भूख का कम लगना और प्यास का अधिक लगना
  • कमजोरी होने पर बुखार और थकान जैसे लक्षण नजर आते हैं
  • चक्कर आना
  • सांस लेने में कठिनाई का अनुभव होना

कमजोरी के कारण

  1. विटामिंस की कमी- शरीर में विटामिंस की कमी होने के कारण में कमजोरी आने लगती है| विटामिंस की कमी के कारण शरीर में लाल रक्त कणिकाओं का निर्माण कम होने लगता है जिसके कारण शरीर में ऊर्जा की कमी आ जाती है|
  2. थायरॉइड- थायराइड की समस्या होने पर शरीर में थायराइड का कम ज्यादा होने लगता है जिसके कारण शरीर में कमजोरी आने लगती है|
  3. खून की कमी- महिलाओं में पीरियड्स के समय रक्त स्त्राव होने पर शरीर में खून की कमी हो जाती है जिसके कारण शरीर की कमजोरी हो जाती है या किसी अन्य बीमारी जैसे शुगर की चपेट में आने के कारण भी माहिलाओ या पुरुषों में खून की कमी हो जाती है और वजन कम होने लगता है|
  4. बढ़ती उम्र- उम्र के बढ़ने के साथ साथ व्यक्ति की मांसपेशियां कमजोर हो जाती है और शारीरिक कमजोरी होने लगती है|
  5. नींद की कमी– पर्याप्त मात्रा में नींद न लेने पर शरीर में कमजोरी आने लगती है और थकावट होने लगती है|
  6. पोषक तत्वों की कमी- शरीर में कैल्शियम , पोटैशियम , मैग्निशियम , फास्फोरस , प्रोटीन , विटामिंस आदि पोषक तत्वों की कमी के कारण शरीर में कमजोरी आने लगती है इसलिए हमें ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिसने पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में हो जैसे-दूध , दही , पनीर , अंडा , सोयाबीन , मछली , मास आदि|
  7. तनाव- किसी भी बात को लेकर चिंता या तनाव होने पर शरीर में कमजोरी आने लगती है|

कमजोरी को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक उपाय

  1. केला- केले में पोटेशियम और मिनरल पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो केले में पाई जाने वाली शर्करा जो शरीर को एनर्जी देते हैंजैसे-ग्लूकोस , फ्रुक्टोज आदि को ऊर्जा में परिवर्तित कर देता है| हमें प्रतिदिन के आहार में केले को शामिल करना चाहिए जो कमजोरी को दूर करता है|
  2. लहसुन– लहसुन में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं प्रतिदिन सुबह खाली पेट दो या तीन लहसुन की कलियों को छीलकर पानी के साथ सेवन करने से इम्यून सिस्टम की कमजोरी को दूर किया जा सकता है|
  3. बादाम- बादाम में काफी मात्रा में ही मैग्निशियम मौजूद होता है|बादाम को रात को पानी में भिगोकर सुबह छिलके उतारकर बादाम का सेवन करने से कमजोरी दूर होती है|
  4. आंवला- आंवले में कैल्शियम , प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट , पोटेशियम , फास्फोरस , विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं|आंवले के रस में शहद मिलाकर सेवन करने से कमजोरी को दूर किया जा सकता है|
  5. दूध- दूध में कैल्शियम मौजूद होता है| एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर  सेवन करने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है और शरीर में खून की मात्रा बढ़ती है|
  6. अंडा-अंडे में विटामिन ए और राइबोफ्लेविन मौजूद होते हैं इसलिए हमें प्रतिदिन सुबह या शाम को उबले हुए अंडे का सेवन करना चाहिए अंडों को खाने से शरीर को प्रोटीन मिलता है और कमजोरी  का अनुभव नहीं  होता|
  7. अनार- अनार का जूस पीने से खून बढ़ने लगता है और रक्त का संचार ठीक ढंग से होता है इसलिए अपने प्रति दिन की आहार में अनार का जूस पीने से शरीर की कमजोरी को दूर किया जा सकता है|
  8. हरी मेथी– हरी मेथी का प्रतिदिन सेवन करने से शरीर में खून की कमी और शारीरिक कमजोरी को दूर किया जा सकता है|
  9. गाजर– हमें प्रतिदिन के आहार में गाजर को शामिल करना चाहिए गाजर का जूस पीने से खून में वृद्घि होती है और शारीरिक कमजोरी दूर होती है|
  10. अलसी के बीज- एक गिलास गुनगुने दूध के साथ अलसी के बीजों का सेवन करने से कमजोरी दूर होती है|
  11. नीम की छाल– नीम की छाल एक जड़ी बूटी है| नीम की छाल का काढ़ा बनाकर पीने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है|
बादाम
बादाम