जोड़ों में दर्द (joint pain)

जोड़ों में दर्द एक आम समस्या बन चुकी है जो दोनों जोड़ों को प्रभावित कर सकती हैउम्र बढ़ने के साथ साथ हाथ पांव के जोड़ों में दर्द होने लगता है और हड्डियों में कमजोरी आने लगती है। सबसे ज्यादा ये परेशानी घुटनों में महसूस होती है। 

जोड़ों में दर्द के कई लक्षण हो सकते हैं जैसे -गठिया , चोट , संक्रमण आदि इनमें से सबसे सामान्य कारण है गठिया| जिस में जोड़ों में सूजन होती है| गठिया के भी कई प्रकार होते हैं|जोड़ों में दर्द का उपचार प्रभावित जोड़ों दर्द की गंभीरता और अन्य कारणों के आधार पर होता है| औपचारिक की मूलभूत कारणों को ठीक करता है और लक्षणों को कम करने में सहायता करता है|

जोड़ों में दर्द के लक्षण (joint pain symptoms)

  • हड्डियों की आपस में घुसने से तेजी से दर्द होना|
  • जोड़ों की गतिशीलता करने की क्षमता में कमी होती है|
  • गठिया में मुख्य रूप से जोड़ों में सूजन होती है |

जोड़ों में दर्द के कारण (joint pain reason)

  1. ज्यादा देर तक बैठे रहना-ऑफिस में एक ही जगह पर लंबे समय तक बैठे रहने से शरीर को कई बीमारियां घेर लेती हैं। दरअसल, जब आप एक ही जगह पर ज्यादा देर तक बैठे रहते हैं तो शरीर में खून का संचार सही तरह से नहीं हो पाता, जिसकी वजह से जोड़ों में दर्द होने लगता है।ऐसे में काम करते वक्त बीच-बीच में थोड़ा ब्रेक जरूर लें। इससे ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होगा और जोड़ों में दर्द की परेशानी नहीं होगी। 
  2. खानपान –फास्ट फूड खाने और स्मोकिंग करने से जोड़ों पर बुरा असर पड़ता है। अपनी डाइट में विटामिन-डी और कैल्शियम युक्त आहार को शामिल करें। 
  3. भरपूर नींद न लेना -काम की वजह से रात को लेट सोने से भी नींद पूरी नहीं होती है जोड़ों में दर्द का कारण भरपूर नींद न लेना भी है। अपने जोड़ों को हैल्दी रखने के लिए 8 घंटे नींद जरूर लें। 
  4. एक्सरसाइज -एक्सरसाइज करने से भी जोड़ों में दर्द हो सकता है|

जोड़ों में दर्द के आयुर्वेदिक नुस्खे( joint pain treatment in Ayurveda)

  • लहसुन –रोज सुबह लहसुन की 56 कलियां बोल कर खाएं इस में दर्द और सूजन को कम करने वाला साइड साइटोकींस नमक सब्सटेंस होता है|
  • अजवाइन- अजवाइन के तेल की मालिश करने से जॉइंट पैन में बहुत लाभ मिलता है यह दर्द को दूर करने में भी सहायक है|
  • सोंठ –एक चम्मच सोंठ और आधा टुकड़ा जायफल का लेकर दोनों को पीसकर तिल के तेल में मिलाकर इसमें कपड़ा भिगोकर ज्वाइंट पर पट्टी बांधने से जोड़ों का दर्द दूर हो जाता है|
  • हल्दी और अदरक- सबसे पहले दो कप पानी लेकर अच्छे से उबाले फिर इसमें एक चम्मच हल्दी और अदरक का पाउडर डालें अभी से 15 से 20 मिनट तक अच्छे से उबलने दे इसके पश्चात स्वाद अनुसार थोड़ा सा शहद मिला लें इस तरह अदरक और हल्दी की चाय बना कर एक दिन में दो से तीन बार पीए |
  • मेहंदी के पत्ते- मेहंदी के ताजे पत्ते को महीन पीसकर रात को सोते समय गाढ़ा लेप जॉइंट पर लगाएं इसे तब तक करते रहे जब तक घुटनों में दर्द कम न हो|
  • अफीम –आधी रति अफीम और दो रत्ती और दो रत्ती कपूर की गोली बनाकर खाने से खूब पसीना आकर गठिया के पुराने से पुराने रोग में भी लाभ मिलता है|
  • नींबू- नींबू का रस जॉन स्पर्म चलते रहने से जोड़ों में दर्द कम हो जाता है और घुटनों में सूजन भी कम हो जाती है|
  • सौंफ, कासनी के बीज,मकोय, हंसराज सौंफ की जड़ ,कासनी की जड़ ,मुलेठी और बबूल के फूल इन सबको 3-3 माशे लेकर 32 तौले पानी में मिट्टी की हांडी में काढ़ा बनाएं 4 -5 तौले ले पानी रह जाने पर उतारकर मल छान ले और इस काले से गठिया रोग नष्ट होता है यह सुबह शाम पीना चाहिए|
  • धतूरे के फूल, पत्ते, जड़ और फल सब डेढ़ पाव लेकर सिल पर पानी के साथ पीस लें फिर सरसों का तेल आधा पाव तिल्ली का तेल, आधा पाव अरंडी का तेल ,आधा पाव और लुगदी को आग पर चढ़ा कर पकाएं जब दवाइयां जल जाए तेल को उतार ले इस तेल से जोड़ों का दर्द नष्ट हो जाता है|
  • सनाय दो तोले, सुरंजन दो तोले ,हर्ड एक तोले,बादाम 10 माशे ,मेहंदी की पत्ती 7 माशे, केसर 4 माशे इन सबको पीसकर  छान लेंफिर जितना चूर्ण का वजन हो उतनी ही मिश्री मिला दे और शीशी में रख ले इसकी मात्रा एक तोले से 2 तोले तक है सुबह एक मात्रा खाने यह रोग नष्ट होता है|
अदरक
अदरक