ड्रग एलर्जी (Drug allergy)

ड्रग एलर्जी

जब दवाओं का सेवन करने से दवाओं के प्रति शरीर कोई हानिकारक प्रतिक्रिया देता है तो इसे ड्रग एलर्जी कहा जाता है ड्रग एलर्जी का पता लगाने के लिए स्किन टेस्ट नामक परीक्षण किया जाता है कई दवाओं के साइड इफेक्ट्स होते हैं कुछ लोगों में एंटी हिस्टामिन दवाइयों का सेवन करने से साइड इफैक्ट्स होने के कारण सांस लेने में दिक्कत ब्लड प्रेशर कम होना त्वचा पर लाल दाने होना, चक्कर आना ,नाक बहना ,आंखों में खुजली होना आदि लक्षण नजर आने लगते हैं|

ड्रग एलर्जी सिम्पटम्स (drug allergy symptoms)

  • सांस लेने में कठिनाई का अनुभव होना|
  • त्वचा पर लाल चकत्ते होना और उम्मीद से द्रव पदार्थ का निकलना|
  • ब्लड प्रेशर कम होना|
  • आंखों में खुजली ,आंखे लाल होना और आंखों से पानी आना|
  • थकावट महसूस करना है जिसके कारण चक्कर आने लगते हैं|

ड्रग एलर्जी के कारण(drug allergy causes)

  1. सल्फा ड्रग्स
  2. कंट्रास्ट डाई
  3. एस्पिरिन और इबुप्रोफेन
  4. अतिगलग्रंथिता के लिए दवाएं
  5. टीके
  6. आक्षेपरोधी
  7. कीमोथेरेपी दवाएं

ड्रग्स से होने वाली एलर्जी का इलाज

1।एंटी हिस्टामिन –जब आपका शरीर किसी एलर्जन पदार्थ के संपर्क में आता है तो वर्जन को हानिकारक पदार्थ समझने लगता है जिसके कारण शरीर में खुजली और त्वचा संबंधी एलर्जी होने लगती है एंटी हिस्टामिन दवाओं का सेवन करने से ड्रग एलर्जी की समस्या दूर होती है और यह है 1 दिन में एक ही बार प्रयोग में लाने पर इसका असर 24 घंटे तक रहता है|

2.नेजल कॉर्टिकोस्टेरॉइड-किसी दवा से एलर्जी होने के कारण श्वसन मार्ग में सूजन आने पर कॉर्टिकोस्टेरॉइड जैसी दवाओं का सेवन करने से सूजन को खत्म किया जा सकता हैनेजल कॉर्टिकोस्टेरॉइड सप्रे नामक दवाओं का सेवन करने से ड्रग एलर्जी के लक्षण खत्म हो जाते हैं और इनका शरीर पर कोई हानिकारक प्रभाव नहीं भी नहीं पड़ता|

3.ब्रोंकोडाइलेटर- ब्रोंकोडाइलेटर जैसी दवाओं का सेवन करने से एलर्जी के कारण हुई खांसी से निजात मिलता है और आप को सांस लेने में कठिनाई का अनुभव नहीं होता|

ड्रग एलर्जी टेस्ट(Drug allergy test)

ड्रग एलर्जी एक संवेदनशील प्रतिक्रिया है जो पदार्थ शरीर के संपर्क में आते हैं ऐसे पदार्थों के खिलाफ प्रतिक्रिया प्रतिरक्षा प्रणाली की जाती है|

एलर्जी टेस्ट दो प्रकार से किया जाता है जिसमें स्किन टेस्ट और ब्लड टेस्ट शामिल है एलर्जी टेस्ट से यह पता लगाया जाता है कि आपको किस चीज से एलर्जी है|

एलर्जी टेस्ट के प्रकार:-

1.स्किनटेस्ट-.स्किन टेस्ट में एलर्जी पदार्थ को रोगी की त्वचा के संपर्क में लाया जाता है और परीक्षण किया जाता है कि प्रतिक्रिया होती है या नहीं| एलर्जी स्किन टेस्ट का रिजल्ट कुछ ही घंटों में पता लग जाता है स्किन टेस्ट तीन प्रकार के होते हैं जिनका वर्णन इस प्रकार से है:-

  • स्किन प्रिक टेस्ट -इस टेस्ट में एलर्जी पदार्थ की कुछ बूंदे इंजेक्शन के द्वारा त्वचा के अंदर भेजी जाती है अगर त्वचा पर हानिकारक प्रभाव जैसे -खुजली ,सूजन आदि दिखने लगता है तो यह माना जाता है कि व्यक्ति को इन पदार्थों से एलर्जी है|
  • इंट्रा डर्मलटेस्ट-जब किसी एलर्जी पदार्थ की कुछ बूंदें इंजेक्शन के माध्यम से त्वचा के अंदर डाली जाती है अगर मरीज कोई प्रतिक्रिया नहीं करता तो इंट् रेडर्मल टेस्ट का उपयोग किया जाता है|
  • स्किनपैचटेस्ट– इस टेस्ट में अर्जित पदार्थ को एक पेड़ पर लगाकर उसे स्किन पर बांध दिया जाता है कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस स्किन से संबंधित रोग का पता लगाने के लिए इस टेस्ट का उपयोग किया जाता है|

2.ब्लडटेस्ट-ब्लड टेस्ट में व्यक्ति के खून की कुछ मात्रा इंजेक्शन के द्वारा ली जाती है ब्लड टेस्ट खून में एंटी बॉडीज नामक पदार्थ के स्तर का मापन करता है एलर्जी टेस्ट के द्वारा अगर आपको त्वचा संबंधी संक्रमण है तो उसका पता लगाया जा सकता है अस्थमा रोग की जांच के लिए भी एलर्जी ब्लड टेस्ट का उपयोग किया जाता है|

ड्रग एलर्जी को खत्म करने के आयुर्वेदिक उपाय(drug allergy treatment)

1.मुल्तानीमिट्टी– मुल्तानी मिट्टी को पानी में मिलाकर इसका मिश्रण तैयार कर लें और इसको शरीर पर लगा ले और सूखने पर स्नान कर ले इससे आपको खुजली की समस्या से निजात मिल सकता है|

2.कपूर और नारियलतेल-कपूर को पीसकर उसमें नारियल तेल मिलाकर मिश्रण बना लें अब इस मिश्रण को प्रभावित जगह पर लगाएं ऐसा करने सेआराम मिलेगा|

3.बेकिंग सोडा –नहाते समय पानी में बेकिंग सोडे की कुछ मात्रा डालकर नहाने से खुजली से संबंधित समस्या दूर होती है|

4.एलोवेरा –एलोवेरा में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं एलोवेरा में से जेल को निकालकर लाल चकते पर लगाने से जलन और सूजन की समस्या दूर होती है|

Alovera
एलोवेरा ( Alovera )

5.कच्चा आलू –आलू की स्लाइस को काटकर प्रभावित स्थान पर रख दें कच्चा आलू घमोरियां होने की स्थिति में बहुत फायदेमंद है और इससे खुजली की समस्या भी दूर होती है|

6.अदरक-अदरक के छिलके को छीलकर उसकी टुकड़े को पीसकर उबलते हुए पानी में थोड़ी देर के लिए भिगो दें इस मिश्रण का सेवन करने से ड्रग एलर्जी की समस्या दूर होती है|

7.पानीकासेवन-हमें प्रतिदिन अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से शरीर के विषैले पदार्थ यूरिन के साथ बाहर निकल जाते हैं इसलिए ज्यादा पानी पीने से स्किन एलर्जी की समस्या दूरहोती है|

8.करौंदा-करौंदे का सेवन करने से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है सोने के पाउडर में शहद को मिलाकर इसका मिश्रण बनालें और रात को सोने से पहले इसका सेवन करें यह नुस्खा बहुत ही लाभदायक है|

9.चंदन-चंदन में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो घमौरियों के दर्द को कम करने में हमारी मदद करते हैं चंदन के पाउडर मैं थोड़ा सा पानी मिलाकर पेस्ट बना ले इस मिश्रण को लाल दानों पर लगाने से जलन से राहत मिलती है|

10.अरंडीकातेल-नाक की एलर्जी होने पर आधा कप पानी मे अरंडी के तेल की चार से पांच बूंदें डालकर सुबह खाली पेट पीने से ड्रग एलर्जी की समस्या दूर होती है|

11.नीम- नीम में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं इसलिए नीम की पत्तियों को रात को पानी में भिगोकर पीस लें और इस मिश्रण को लाल दानों पर लगाने से घमौरिया की समस्या दूर होती है नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी से स्नान करने से खुजली की समस्या दूर होती है|

Ne em
नीम (Ne em )