ब्रा साइज नंबर

कैसे ब्रा का साइज नापे (How to measure bra size in Hindi)

ब्रा साइज नंबर बैंड साइज पर निर्भर करता है| क्या आप जानते हैं 100 में से 70 से 80% महिलाएं गलत साइज की ब्रा पहनती है जिसका मुख्य कारण है कि उन्हें जानकारी की नहीं होती की उनके ब्रेस्ट का साइज क्या है| महिलाएं अपनी ब्रा की ब्रा साइज नंबर से पहचान करती हैं जैसे-28, 30, 32, 34 ,36, 38 आदि महिलाओं को यही नहीं पता होता कि उनके ब्रेस्ट साइज का क्या मतलब होता है| 28 ,30, 32, 34 ,36, 38 आदि के ब्रेस्ट के नीचे की पसलियों का साइज होता है जिन्हें बैंड साइज कहते हैं| उसके बाद A, B ,C, D ब्रेस्ट साइज होता है जिसे कप साइज कहते हैं|

ब्रा का बैंड साइज कैसे नापे (How to measure bra bend size)

ब्रा साइज नंबर नापने के लिए मेजरिंग टेप(measuring tape) की जरूरत पड़ती है जिसकी मदद से हम बैंड साइज का पता लगाते हैं| मेजरिंग टेप के एक हिस्से को अपनी ब्रेस्ट के नीचे से ले जाकर पीठ की ओर से ले जाकर टेप के दूसरे हिस्से से मिला दें| यह ध्यान रहे कि टेप पीछे से मुड़ी हुई ना हो और आपकी बाहे नीचे की ओर हो|आपको  एक नंबर प्राप्त होगा अगर वह नंबर ऑड नंबर है तो उसमें एक जोड़ने पर हमें बैंड साइज मिलेगा| उदाहरण के लिए अगर आपको 27 ऑड नंबर मिला है तो उसमें एक जोड़ने पर 27 +1=28 आपका बैंड साइज नंबर होगा|

ब्रा का कप साइज कैसे नापे (How to measure bra cup size)

ब्रा का कप साइज नापने के लिए भी मेजरिंग टेप की जरूरत पड़ती है| ब्रा का कप साइज नापने के लिए मेजरिंग टेप को ब्रेस्ट के उभरे हुए स्थान से ही नापे| मेजरिंग टेप के एक हिस्से को ब्रेस्ट के उभरे हुए स्थान पर रखकर पीठ की ओर घुमाते हुए टेप के दूसरे हिस्से से मिला दें और टेप को सीधे पकड़े| मेजरिंग टेप को ज्यादा कसकर नाप न लें|अगर आपका कप साइज 30 है और आपका बैंड साइज 29 है तो 1 इंच का अंतर है जिसका मतलब आपके कप का साइज A है इसी प्रकार अगर 2 इंच का अंतर है तो आपका कप साइज B है इसी प्रकार अगर 3 इंच का अंतर है तो आपका कप साइज C है इसी प्रकार अगर 4 इंच का अंतर है तो आपका कप साइज D है|

चार्ट के माध्यम से हमें यह पता लगा है कि अगर आपका बैंड साइज 32 है और कप साइज बी है तो ब्रा साइज नंबर 32b होता है|

ब्रा के प्रकार (bra types)

ब्रा के विभिन्न प्रकार होते हैं बाजारों में अलग-अलग आकार की ब्रा उपलब्ध होती है आप अपने स्तनों के आकार के हिसाब से ब्रा का चयन कर सकती है कपड़ों के हिसाब से भी आप ब्रा चुन सकती हैं|

  1. स्पोर्ट्स ब्रा- स्पोर्ट्स ब्रा काफी मजबूत होती है|एक्सरसाइज करने के लिए स्पोर्ट्स ब्रा डिजाइन की गई है| स्पोर्ट्स ब्रा पहनने पर हमारे सतनों पर खिंचाव नहीं पड़ता और हम आरामदायक महसूस करते हैं|
  2. पुश अप ब्रा- यह पैडेड ब्रा होती है जिन महिलाओं के स्तनों का आकार कम होता है यह उनके लिए परफेक्ट ब्रा है पुश अप ब्रा पहनने पर महिलाओं के स्तन बड़े और सुडोल दिखाई देने लगते हैं|
  3. बैंडो ब्रा- यह ब्राउन महिलाओं के लिए बनाई गई है जिनके सतन काफी हैवी होते हैं यह पेडिड और नॉनप्रिडिक दोनों वैरायटी में पाई जाती है|
  4. बिल्ट इन ब्रा- इस ब्रा में कप किसी स्पेगेटी में लगे होते हैं यह खासकर उन महिलाओं के लिए होती है जिनकी ब्रेस्ट हेवी होती है|
  5. बाल्कोनेट ब्रा- इस ब्रा में आपके सतन पूरी तरह से नहीं ढकते और आपके सतन ऊपर की तरफ उभरे हुए नजर आने लगते हैं|
  6. कन्वर्टिबल ब्रा- इस ब्रा में आप स्ट्रैटस निकाल सकती हैं और अपने मनपसंद ट्रांसपेरेंट स्ट्रिप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं|
  7. मेटरनिटी ब्रा- गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को स्तनपान कराने में दिक्कत महसूस ना हो इसी कारण मेटरनिटी ब्रा में पेट को खोलने के लिए लेस लगी हुई है जिसे आसानी से स्तनपान करवाया जा सकता है मेटरनिटी ब्रा को नर्सिंग ब्रा भी कहते हैं|

ब्रा पहनने के फायदे

  1. आत्मविश्वास बढ़ना– ब्रा पहनने के बाद महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ने लगता है और शर्म भी महसूस नहीं होती लेकिन ब्राने पहनने वाली महिलाओं को शर्मिंदगी सामना करना पड़ता है|
  2. आकर्षक दिखना- सही आकार की ब्रा पहनने से महिलाओं के स्तनों के आकार में परिवर्तन दिखता है| ब्रा पहनने के बाद महिलाओं के स्तन आकर्षक और सुनो दिखाई देने लगते हैं जिन महिलाओं के स्तनों का आकार कम होता है वे महिलाएं अपने सपनों को आकर्षित दिखाने के लिए पैडेड ब्रा का इस्तेमाल कर सकती है जिससे उनके स्तन आकर्षक दिखाई देने लगेंगे|
  3. स्तनों को सपोर्ट मिलना- उम्र बढ़ने के साथ-साथ महिलाओं के स्तन ढीले हो जाते हैं और लटकने लगते हैं| वह बेडौल आकार के हो जाते हैं इसलिए हमें नियमित रूप से ब्रा पहनी चाहिए जिनसे सतन ढीले होने का खतरा नहीं रहे|
  4. सतन में दर्द कम होना- स्पोर्ट ब्रा पहनने से महिलाओ के सतनो की मांसपेशियों को सहारा मिलता है जिससे सतन में दर्द नहीं होता|
  5. आरामदायक महसूस होना- स्पोर्ट ब्रा को पहनने से एक्सरसाइज करने में कठिनाई का अनुभव नहीं होता और इससे आपको आराम महसूस होता है|
  6. सही बॉडी शेप मिलना- स्वस्थ रहने के लिए आपको नियमित रूप से ब्रा पहननी चाहिए किशोरावस्था में ही लड़कियों को सही ब्रा साइज का चयन करना चाहिए|
ब्रा साइज नंबर
ब्रा साइज नंबर

ब्रा पहनने के नुकसान

  1. सांस लेने में कठिनाई का अनुभव होना- टाइट ब्रा पहनने पर या सही आकार की ब्रा न पहनने पर महिलाओं की मांसपेशियों पर खिंचाव पड़ने लगता है जिससे सांस लेने में कठिनाई का अनुभव होता है|
  2. त्वचा में खुजली- गर्मियों में ब्रा पहनने पर पसीना आने के कारण महिलाओं के सतन पर खुजली रैशेज जैसी समस्याएं होने लगती हैं|
  3. बेचैनी का अनुभव होना- टाइट ब्रा या गलत आकार की ब्रा पहनने पर महिलाओं को बेचैनी का अनुभव होने लगता है|
  4. हाइपरपिगमेंटेशन- ब्रा पहनकर सोने से हाइपरपिगमेंटेशन की समस्या उत्पन्न हो जाती है जिसके कारण त्वचा पर दाग धब्बे पड़ने लग जाते हैं|
  5. फंगल इनफेक्शन- रात में ब्रा पहनकर सोने से महिलाओं के सतन की त्वचा टोन नहीं हो पाती और सतन के आसपास की त्वचा पर फंगल इनफेक्शन होने लगता है|
  6. ब्लड सरकुलेशन न होना- रात में ब्रा पहनकर सोने से महिलाओं में रक्त का संचार ठीक ढंग से नहीं हो पाता क्योंकि सतनों अपनी उसको पर दबाव पड़ने लगता है|