ब्रेस्ट कैंसर क्या है

ब्रेस्ट कैंसर की समस्या एक आम समस्या हो चुकी है |पुरुषों की अपेक्षा स्त्रियों में यह समस्या ज्यादा देखने को मिलती है|अगर इस समस्या का समय पर इलाज नहीं किया जाए तो यह बीमारी का गंभीर रूप धारण कर सक्ती है |सही समय पर लक्षण पता चलने पर इलाज शुरू होने से ब्रेस्ट कैंसर नामक बीमारी को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है |इस रोग में व्यक्ति को गांठ का अनुभव होता है| गांठ होना कैंसर की शुरुआत का मुख्य कारण है| अगर आपको ऐसा अनुभव होता है तो तुरंत ही डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए|

ब्रेस्ट कैंसर
ब्रेस्ट कैंसर

क्यों होता है ब्रेस्ट कैंसर

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर होने के मुख्य कारण हो सकते हैं जिन महिलाओं में मासिक धर्म जल्दी शुरू होकर देर से खत्म होता है या जिन महिलाओं के बच्चे ने हो और जो देर से ही मां बनी हो उन महिलाओं को इस रोग का खतरा होने की संभावना ज्यादा होती है|

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण

  • स्तन की गोलाई में कोई बदलाव, जैसे- एक से दूसरे का बड़ा होना स्तन कैंसर का मुख्य लक्षण है|
  • स्तन में दर्द या गांठ का महसूस होना स्तन कैंसर का मुख्य लक्षण है|
  • स्तन से रस जैसे कुछ पदार्थ का निकलना|
  • निपल्स का लाल पड़ना|
  • स्तन में सूजन |
  • स्तन के आकार में बदलाव |
  • स्तन को दबाने पर दर्द न होना|

ब्रेस्ट कैंसर होने के कारण

  • बढ़ती उम्र|
  • ज़्यादा उम्र में पहले बच्चे का जन्म|
  • आनुवांशिकता (heredity)
  • शराब जैसे पेय पदार्थ का अधिक सेवन|

ब्रेस्ट कैंसर को रोकने के घरेलू उपाय

  1. आयोडीन-कई बार खाने में आयोडीन की कमी होने पर शरीर में गांठ पड़नेलगती है इसलिए अपने खाने में आयोडीन युक्त नमक का सेवन करें। 
  2. कैफीनन ले-कोई भी ऐसा पेय पदार्थ पीने से परहेज रखें जिसमें कैफीन का मात्रा हो। कैफीन से गांठ का विकास घटने की बजाए बढ़ता है। 
  3. हरी सब्जियां-भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियां जरूर शामिल करें। इनमें एस्‍ट्रोजन होता है जो किसी भी तरह की दर्द और खिंचाव से आराम दिलाता है। 
  4. स्‍तनों की मसाज-स्‍तनों की मसाज सही तरीके से करने से भी गांठ पिघल जाती है। इससे रक्‍त का संचार अच्‍छी तरह होता है और लम्‍फ ग्‍लैंड्स के द्वारा सिस्‍ट से फ्लूएड बाहर निकल जाता है|
  5. जूस-हर रोज अंगूर या अनार का जूस पीने से कैंसर से बचाव होता है|
  6. लहसुन-.प्रतिदिन लहसुन का सेवन करने से स्तन कैंसर की संभावनाओं को रोक सकते हैं|
  7. ग्रीन टी-.एक गिलास पानी में हर्बल ग्रीन टी को आधा होने तक उबालें और फिर पी लें |

ब्रेस्ट कैंसर को  रोकने के लिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्खे

  1. काली मिर्च-काली मिर्च में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं इसलिए यह किसी भी प्रकार के कैंसर से आपकी सुरक्षा करता है। इसमें पैपरीन होता है, जो एंटी कैंसर के रूप में प्रयोग किया जाता है।
  2. लहसुन-लहसुन में भी एंटीऑक्‍सीडेंट अधिक मात्रा में होते हैं, जिससे यह भी एंटी कैंसर आहार माना जाता है। यह कार्सिनोजेनिक कंपाउन्‍ड को बनने से रोकता है और कैंसर से शरीर की सुरक्षा करता है।
  3. हल्‍दी-हल्दी प्रकृति की अद्भुत देन है, जिसमें कई सारे अवगुणों से लड़ने की शक्ति होती है। यह शरीर में कैंसर की बीमारी पैदा होने से बचाती है। यहहमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाती है। इसके साथ ही हल्‍दी में करक्यूमिन  नामक फाइटोन्‍यूट्रिएंट होता है, जो कैंसर से शरीर की सुरक्षा करता है।
  4. अखरोट-अखरोट का सेवन भी ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाने में मदद करता है|
  5. गर्भनिरोधक गोलियां – गर्भनिरोधक गोलियांज्यादा खाने से ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है इसलिए गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन नहीं करना चाहिए|
  6. फलो का सेवन-खट्टे फलों का सेवन करना भी सतन का कैंसर होने से बचाता है|
हल्दी
हल्दी