भूख की कमी (loss of hunger)

भूख की कमी

भूख की कमी की समस्या एक आम समस्या बन चुकी है अगर इस समस्या पर समय रहते ध्यान न दिया जाए तो यह चिंता का विषय बन सकती है जब आपकी खाने के प्रति इच्छा नहीं होती तो उसे भूख में कमी  कहा जाता है|भूख की कमी होने पर कोई प्रकार के लक्षण नजर आते हैं जैसे- चक्कर और उल्टियां आना थकान का अनुभव होना ,शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना ,कब्ज होना ,खाने को बीच में अधूरा छोड़ना जैसे लक्षण नजर आते हैं|भूख न लगने की स्थिति को एनोरेक्सिया के नाम से भी जाना जाता है|एनोरेक्सिया एक ऐसी मानसिक स्थिति है जिसमें व्यक्ति अपना वजन बढ़ाने से डरता है इस रोग में व्यक्ति अपने वजन को लेकर जरूरत से ज्यादा चिंतित रहता है उन्हें हर समय यही डर लगा रहता है कि उनका वजन बढ़ न जाए|

एनोरेक्सिया एक ऐसी बीमारी है जिसमें व्यक्ति कम से कम खाते हैं और कैलोरी बढ़ाने के लिए अधिक व्यायाम करते हैं|यह मानसिक बीमारी युवावस्था के लोगों में भी देखने को मिलती है लेकिन बच्चों में इस मानसिक बीमारी के होने पर बच्चों की मन में खाने और वजन के प्रति असामान्य विचार आने लगते हैं|जिन व्यक्तियों में एनोरेक्सिया ईटिंग डिसऑर्डर नामक बीमारी होती है  भूख लगने पर भी वजन बढ़ने के डर से खाना खाने से मना कर देते हैं खाने से दूर भागते हैं|

भूख की कमी के लक्षण (loss of hunger symptoms)

  • खाना चबाने में कठिनाई का अनुभव होना
  • थोड़ा सा खाना खाकरखाने को बीच में अधूरा छोड़ देना
  • थकान का अनुभव होना
  • चक्कर और मितली आना
  • शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है
  • हाथों और पैरों में सूजन आ जाना
  • कब्ज होना
  • मासिक धर्म समय पर न आने की समस्या उत्पन्न होना
  • ऑस्टियोपोरोसिस जैसे लक्षण प्रतीत होना
  • हृदय की धड़कन की गति असामान्य होना
  • उल्टी करते समय सांसो से बदबू आना
  • भोजन में अधिक वसा होने पर या वजन बढ़ने के डर से चिंतित रहना
  • खाना खाने के बाद बार बार शौच जाना
  • खाना न खाने के लिए बहाने बनाना
  • वजन कम होने पर भी वजन कम करने का प्रयास करना
  • लिवर में जलन और सूजन जैसी समस्या होने लगती है

भूख न लगने के कारण (cause of loss of hunger)

  1. तनाव- एनोरेक्सिया से ग्रस्त लोग वजन बढ़ने के डर से चिंतित रहते हैं और खाना खाने पर जड़ी बूटियों के प्रयोग से उल्टियां करते हैं और शर्मिंदगी महसूस करते हैं|
  2. मानसिक कारण- खाने की विकार से पीड़ित लोगों को मानसिक समस्याएं होने लगती है जो खाने के विकार को विकसित करती हैं|
  3. भोजन की कमी होना या डाइटिंग– खाना कम खाना खाने की विकार को विकसित करने वाला मुख्य कारण है खाने की कमी के कारण तनाव, चिंता , डिप्रेशन , कम भूख लगना जैसी समस्याएं उतपन होने लग जाती है जिसके कारण व्यक्ति एनोरेक्सिया से पीड़ित हो जाता है|
  4. दवाइयां– अवसाद दवाइयों का सेवन करने पर होने वाले साइड इफेक्ट के कारण भूख में कमी जैसी समस्या होने लगती है|
  5. भावनात्मक तनाव- भावनात्मक तनाव जैसे सगे संबंधी को खो देना या रिश्ते टूटना आदि होने के कारण तनाव , चिंता , भूख की कमी का कारण बन सकती है|
  6. अनुवांशिकता– आपके परिवार में से किसी सदस्य माता-पिता में भोजन विकास संबंधी समस्या है तो आप में भी यह समस्या विकसित होने की संभावना बढ़ने लगती है|
  7. एनीमिया- एनीमिया या शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं में कमी होने पर भूख की कमी की समस्या होने लगती है|
  8. डिमेंशिया– डिमेंशिया यानी भूलने की बीमारी होने पर भी बुजुर्गों में भूख की कमी की समस्या होने लगती है|

भूख की कमी के तथ्य (hunger facts)

  1. भोजन को चबाकर खाना चाहिए चबाकर खाने से भूख बढ़ने लगती है और एसिडिटी की समस्या नहीं होती|
  2. खाने में भरपूर मात्रा में पौष्टिक तत्व होनी चाहिए|
  3. भूख की कमी होने की कुछ अनुवांशिक व पर्यावरण  कारण भी होते हैं जिनमें खाने के विकार मौजूद है|
  4. भूख लगने पर ही खाना खाना चाहिए भूख न लगने पर खाया हुआ खाना शरीर को नुकसान पहुंचाता है|
  5. खाने को बैठकर खाना चाहिए जिससे कब्ज और एसिडिटी जैसी समस्या नहीं होती और भोजन आसानी से पचता है|

भूख बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा

  1. सेब का रस-सेब में काफी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है प्रतिदिन सुबह खाली पेट एक सेब का सेवन करते रहने से आपको भूख लगने लगती है|
  2. अजवाइन- एक कप पानी में एक चम्मच अजवाइन और थोड़ा सा काला नमक लेकर दोनों को उबाल लें और फिर इस पानी को ठंडा होने दें ठंडी होने पर पानी को छानकर पी लें इस नुस्खे का प्रतिदिन सेवन करने से आपकी भूख बढ़ने लगेगी|
  3. इलायची- एक गिलास पानी में इलायची को डालकर उबालने और पानी को ठंडा होने दें फिर इस पानी को पी ले यह नुस्खा आपकी भूख को बढ़ाता है|
  4. आंवला– आंवले में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है आपली में एंटी डायबीटिक गुण मौजूद होते हैं इसलिए प्रतिदिन सुबह आंवले के जूस का सेवन करने से आपको भूख लगने लगती है और हमारा पाचन तंत्र भी ठीक ढंग से कार्य करता है|
  5. अनार का जूस- अनार में एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं और विटामिन की मात्रा भी पाई जाती है इसलिए प्रतिदिन एक गिलास अनार के जूस में शहद मिलाकर सेवन करने से आपको भूख लगने लगती है यह आपकी भूख को बढ़ाता है|
  6. धनिया- यह एक प्रकार की जड़ी बूटी है खाने में भी धनिया का प्रयोग किया जाता है प्रतिदिन सुबहधनिया के पत्तों में पानी को मिलाकर इसका रस निकाल ले इस रस का खाली पेट सेवन करने से आपकी भूख बढ़ने लगती है|
  7. गेहूं- गेहूं के आटे में अजवाइन और सेंधा नमक मिलाकर रोटी खाने से आपकी भूख बढ़ने लगती है|
  8. आंवले का मुरब्बा- प्रतिदिन सुबह खाली पेट आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए या आपकी बुक को बढ़ाता है यह नुस्खा लंबे समय से प्रयोग किया जा रहा है यह काफी लाभदायक है|
  9. ग्रीन टी– हमें प्रतिदिन सुबह और रात को ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए यह आपकी भूख को बढ़ाता है|
  10. नींबू-प्रतिदिन सुबह एक गिलास पानी में नींबू और नमक को डालकर पीने से आपको भूख लगने लगती है|
  11. मुनक्का- मुनक्का और आंवला बराबर मात्रा में लेकर पीस लें और मुंह में रखने से यह आपकी भूख को बढ़ाता है|
  12. गाजर का रस- प्रतिदिन गाजर का जूस में अदरक का रस मिलाकर सेवन करने से भूख की कमी की समस्या को दूर किया जा सकता है|
  13. त्रिफला चूर्ण- प्रतिदिन त्रिफला चूर्ण का पानी के साथ सेवन करने से पेट साफ रहता है और आपकी भूख बढ़ने लगती है|
  14. पानी का अधिक सेवन- हमें प्रतिदिन दो से 3 लीटर पानी पीना चाहिए यह आपकी भूख को भी बढ़ाता है|
इलायची
इलायची