हस्तमैथुन (Masturbation)

हस्तमैथुन

हस्तमैथुन को अंग्रेजी भाषा में हैंड प्रैक्टिस भी कहा जाता है |अधिक लोग हस्तमैथुन को गलत समझते हैं और हस्तमैथुन के टॉपिक पर बात करने में शर्म करते हैं| हस्तमैथुन करने से सेहत पर हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ता लेकिन हफ्ते में एक दो बार हस्तमैथुन करने से आप वीर्य स्त्राव की समस्या से निजात पा सकते हैं| हस्तमैथुन जिसे आम भाषा में मूठ मारना कहते हैं यानी अपने शरीर के अंगों को छूकर सेक्स की उत्तेजना को महसूस करना है| पुरुष अपने हाथों से पेनिस को दबाकर ऊपर नीचे करने की प्रक्रिया करते हैं| हस्तमैथुन करने की उम्र 15 से 18 साल के बीच में शुरू हो जाती है, अगर पुरुष और स्त्री आपस में मिलकर हस्तमैथुन करते हैं लेकिन कुछ लोगों को यह प्रक्रिया गलत लगती है| हस्तमैथुन हफ्ते में एक दो बार कर लेना चाहिए और लगातार हस्तमैथुन करने से आप इसके आदि हो जाते हैं तो ऐसी स्थिति को सामान्य नहीं कहा जा सकता |लगातार हस्तमैथुन करने से फायदे और नुकसान हो सकते हैं|

हस्तमैथुन के फायदे

1.मानसिक तनाव से निजात-आजकल मानसिक तनाव की समस्या एक आम समस्या हो गई है |मानसिक तनाव को दूर करने में हस्तमैथुन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, हस्तमैथुन करने से मानसिक तनाव दूर होता है और अच्छा महसूस होता है|

2.नींद आना – हस्तमैथुन करने पर ऑक्सीटॉसिन और एंडोर्फिन हार्मोन निकल जाते हैं हारमोंस के निकलने के दौरान बिना किसी चिंता के नींद आ आने लगती है|

3.शीघ्रपतन की समस्या से निजात – यौन संबंध बनाने से पहले हस्तमैथुन करने से आप संभोग का आनंद ले पाएंगे और आपको शीघ्रपतन की समस्या से निजात मिलेगा|

4.योनि रोग से सुरक्षा-हस्तमैथुन करने से आप एचआईवी ऐड्स जैसी समस्याओं से बचे रहेंगे|

5.वीर्य स्त्राव से छुटकारा – सप्ताह में एक से दो बार हस्तमैथुन करके वीर्य स्त्राव की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं|

हस्तमैथुन के साइड इफेक्ट या नुकसान

हस्तमैथुन जीवन का एक हिस्सा है| हस्तमैथुन के वैसे तो कोई नुकसान नहीं है लेकिन  ज्यादा हस्तमैथुन करने से साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं| आइए जानते हैं हस्तमैथुन करने का हमारे शरीर पर गहरा प्रभाव पड़ता है|

1.लिंग में सूजन आना- जल्दी -जल्दी हस्तमैथुन करने से वीर्य की पहली निकलने वाला तरल पानी मांसपेशियों में चला जाता है जिसके कारण लिंग में सूजन आ जाती है और यह सुजन तब तक रहती है जब तक तरल पानी रक्त में नहीं चला जाता|

2.लिंग की मांसपेशियों का टूटना- कई बार हस्तमैथुन करते समय व्यक्ति अपने लिंग को कसकर दबाते है या मोड़ते हैं ताकि वीर्य बाहर ना निकले लेकिन ऐसा करने से आपके लिंग की मांसपेशियां टूट जाती है और पायरोनी रोग होने पर लिंग टेढ़ा हो जाता है|

3.शुक्राणुओं की संख्या में कमी- प्रतिदिन लगातार हस्तमैथुन करने से वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है जिसके कारण आपकी पिता बनने की क्षमता कम हो जाती है|

4.शारीरिक कमजोरी- हस्तमैथुन करने से आपके शरीर में कमजोरी आती है |ऐसा लगने लगता है जैसे आपकी शरीर की सारी ताकत खत्म हो गई हो|

5.मानसिक तनाव होना- हस्तमैथुन करने के बाद आपने बुरा महसूस किया होगा हस्तमैथुन ज्यादा करने से मानसिक तनाव हो सकता है और आप अवसाद का शिकार हो जाते हैं ऐसा करने से कई बार बेचैनी का अनुभव होता है

6.अवैध संबंध बन्ना-कई लोग हस्तमैथुन अधिक करते हैं और लगातार  हस्तमैथुन करने से यौन इच्छाएं बढ़ने लगती है और वे अपराध करने लगते हैं जैसे:- अवैध संबंध बनाना|

7.पाचन तंत्र पर प्रभाव पड़ना- हस्तमैथुन करने पर हमारे पाचन तंत्र पर बुरा असर पड़ता है और हमारा पाचन तंत्र धीमी गति से कार्य करने लगता है|

8.लिंग में उत्तेजना का बंद होना-ज्यादा हस्तमैथुन करने से लिंग के उसको में चोट पहुंचती है और यह उत्तक नष्ट हो जाते हैं जिसके कारण लिंग में उत्तेजना आना बंद हो जाती है जिससे व्यक्ति मानसिक तनाव का शिकार हो जाते हैं|

हस्तमैथुन से होने वाली कमजोरियां

  • बालों का झड़ना|
  • ज्यादा हस्तमैथुन करने पर लिंग का टेढ़ा हो जाना|
  • समय से पहले ही वीर्य का स्त्राव होने लगता है|
  • कमजोरी और थकान का अनुभव होना|
  • लिंग में सूजन आ जाना|
  • शुक्राणुओं की संख्या में कमी होना|
  • लिंग की मांसपेशियों का टूटना|

हस्तमैथुन से आई कमजोरी का ईलाज  आयुर्वेदा

1.दूध- दूध का सेवन करने से हस्तमैथुन से आई कमजोरी को दूर किया जा सकता है| इसलिए प्रतिदिन कम से कम दो गिलास दूध पीना चाहिए |दूध आपके शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है|

2.पानी- पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से हस्तमैथुन की कमजोरी को दूर किया जा सकता है| पानी का सेवन करने से शारीरिक तनाव और योन की समस्या दूर होती है| पानी पीने से रक्त का प्रवाह ठीक ढंग से होता है|

3.अदरक- अदरक में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं |अदरक का सेवन करने से हस्तमैथुन  ती हुई कमजोरी को दूर किया जा सकता है  और हस्तमैथुन की उत्तेजना में कमी आती है व रक्त का प्रवाह ठीक ढंग से होता है|

4.संतुलित आहार –अपने प्रतिदिन के आहार में फल और हरी सब्जियों, मूंगफली को शामिल करें|

5.केला- केले में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं |केले को काटकर उसमें शहद लगाकर सेवन करने से हस्तमैथुन की कमजोरी को कुछ हद तक दूर किया जा सकता है|

6.जामुन की गुठली- जामुन की गुठली को सुखाकर पीस लें और इस मिश्रण का प्रतिदिन पानी के साथ सेवन करने से हस्तमैथुन की कमजोरी काफी हद तक दूर होती |

7.सेब –अपने प्रति दिन की आहार में सेब को शामिल करें|

8.व्यायाम करना- प्रतिदिन व्यायाम करने से हस्तमैथुन से आई कमजोरी को दूर किया जा सकता है|